Dard Bhari Shayari in Hindi – Painful Shayari Status – Dard Shayari

    Those who are searching for Hindi Shayari status, this page is really helpful. If you are one of them then you must find your desired category of shayari and shayari quotes. Today we are come with Dard Bhari Shayari Status, SMS, quotes, photos on this page.

    This page is not only meant for lovers but also it is helpful of everyone who are searching for Hindi Shayari. In the below of this page you will find the latest and new shayari collection for Dard Bhari Shayari with photos. Also with the available copy and share button you can share it where you want.

    Dard Shayari in Hindi

    When two true lovers or true friends separate with each other then an unforgettable pain arise between them. Sometime there are such conditions which become responsible for their separation. Their heart feels with grief and pain. At that time they want to share their inner feelings with their friends on social media.

    For that they search Dard Shayari in Hindi and Dard Shayari Status photos on various sites. Also this site is meant for such kind of shayari. We are sure that you will find your desired Hindi Dard Shayari Status on this page with beautiful images.

    Hindi Dard Bhari Shayari Status

    This page has a large collection of Hindi Dard Bhari Shayari Status with images. Here you will find the shayari quotes in Hindi and English script. You can define dard as extreme pain that raised in heart due to some bad incidents of life. Not only lovers but also those who are facing dard or pain in their heart will get a lot of dard quotes in Hindi.

    This page contains Best Painful Shayari, Dard Shayari, Hindi Dard Bhari Shayari, Heart Touching Dard Status and New Dard status for Facebook and WhatsApp. Read these entire shayari quotes that have deep meaning and feel the depths of words.

    जो नजर से गुजर जाया करते हैं;
    वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं;
    कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
    बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं

     

    सने मेरी हथेली पे अपनी नाज़ुक सी ऊँगली से लिखा मुझे प्यार है तुमसे...
    न जाने कैसी स्याही थी की वो.. लफ्ज़ मिटे भी नहीं और आज तक दिखे भी नहीं.

     

    अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
    तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं।

     

    अब बस भी कर ज़ालिम, कुछ तो रहम खा मुझ पर,
    चली जा मेरी नज़र से दूर कहीं मैं शायर ना बन जाऊं।

     

    लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है;
    मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है;
    गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर;
    लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है

     

    मेरी चाहत ने उसे ख़ुशी दे दी,
    बदले में उसने मुझे सिर्फ ख़ामोशी दे दी,
    खुदा से दुआ मांगी मरने की,
    लेकिन उसने बी तड़पने की लिए ज़िन्दगी दे दी

     

    नसीहत अच्छी देती है दुनिया,
    अगर दर्द किसी ग़ैर का हो।

     

    एक बात सिखाई है... ताजुर्वे ने हमें,
    एक नया दर्द ही पुराने दर्द की दवा है।

     

    हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम;
    हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम;
    अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला;
    ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

     

    दर्द बन के दिल में छुपा कौन है,
    रह रह कर इसमें चुबता कौन है,
    एक तरफ दिल है और एक तरफ आइना,
    देखना है इस बार पहले टूटता कौन हो

     

    खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात है,
    कुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।

     

    इस तरह मेरी तरफ मेरा मसीहा देखे,
    दर्द दिल में ही रहे और दवा हो जाए।

     

    आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये, तन्हाई मैं तुझे हम पास बुला कर रोये,

     

    कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हें, और हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये।

     

    खामोश जुबां पर तल्खी आ ही जाती है,
    दर्द अपनों ने दिया हो तो यह बातें आ ही जाती है

     

    रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,
    एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है।

     

    फिर कहीं से दर्द के सिक्के मिलेंगे​,
    ये हथेली आज फिर खुजला रही है​।

     

    मेरा ख़याल ज़ेहन से मिटा भी न सकोगे,
    एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे, तो सारी उम्र मुस्करा न सकोगे।

     

    टूटे हुए काँच की तरह
    चकना-चूर हो गया हूँ
    किसी को चुभ न जाऊँ
    इसलिए सबसे दूर हो गया हूँ

     

    तकलीफ ये नहीं कि तुम्हें अज़ीज़ कोई और है,
    दर्द तब हुआ जब हम नजरंदाज किए गए।

     

    वक़्त हर ज़ख़्म का मरहम तो नहीं बन सकता,
    दर्द कुछ ऐसे होते हैं, ता-उम्र रुलाने वाले।

     

    तेरी बातों का असर जो छाया है मेरे दिल पर
    यक़ीनन मुझे तड़पाएगा अब ये रात भर
    सोचा भूल जाऊंगा तुझे अब करूँगा ना याद
    मगर दर्द ही मिला मुझे, तुझे भूल कर

     

    सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,
    कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती।

     

    बहुत खायी हैं इस दिल ने चोटें
    की अब दिल को दर्द भी नहीं होता

     

    हीं मिलेगा तुझे हमेंशा कोई,
    जा इज़ाज़त है, जाके ज़माना आजमा ले

     

    गम जब हद से ज्यादा दिल पर गुज़र जाता है,
    तो दिल में ही नहीं दिमाग में भी उतर जाता है।

     

    हँसते-हँसते अचानक रो देते है हम,
    दर्द ही ऐसा गहरा दिया जो उसने हमें।

     

    तेरी याद में लिखी हर एक ग़ज़ल को रहता है इंतेज़ार
    इन लफ़्ज़ों के ज़रिए पहुँच जाए तुम तक मेरा प्यार

     

    अब उसे ना सोचूं, तो जिस्म टूटने लगता है,
    एक वक़्त गुजरा है उसके नाम का, नशा करते करते है

     

    हमें देख कर जब उसने मुँह मोड़ लिया,
    एक तसल्ली हो गयी चलो पहचानते तो हैं।

     

    खुश था अपने दर्द के साथ भी मैं,
    की कभी तो आएगा दर्द देने वाला इसकी दवा लेकर।

     

    तरस आता है इन मासूम सी पलकों पर।
    जब भीग कर कहती है ,
    अब रोया नहीं जाता।

     

    नहीं इन्हें कमज़ोरी ना समझना,
    औरों के लिए जो हम आँसू बहाते हैं,
    ये तो सबूत हैं उस गहराई का,
    जिसे कम लोग पहचान पाते हैं

     

    तुम अजनबी थे तो रोज याद करते थे,
    तुम्हे अपना होने का अहसास दिलाया तो याद करना ही छोड़ दिया

     

    दिल टूटा है संभलने मे कुछ, वक़्त तो लगेगा साहब,
    हर चीज इश्क़ तो नहीं, की एक पल में हो जाए

     

    देख कर तुझको किसी और के बाहों मे,
    दिल ही नहीं दिमाग भी मेरा टूट गया है।

     

    सबसे ज्यादा दर्द तब होता है,
    जब हम अपना दर्द किसी को बता नहीं पाते।

     

    इस दिल के धड़कने से भी...अब दर्द सा होता है
    तुम्हारी यादों से भरा ये दिल...हर धड़कन पर रोता है

     

    जो शिकायत नहीं करते उनका दर्द कोई नहीं समझता।

     

    किसी का दिल इतना भी मत दुखाओ कि…
    वो खुदा के सामने तुम्हारा नाम लेकर रो पड़े

     

    मत किया कर ऐ दिल किसी से
    मोहब्बत इतनी
    जो लोग बात नहीं करते वो
    प्यार क्या करेंगे

     

    तरस खाओ मुझ पर और इतना बता दो
    तुम्हे वफ़ा नहीं आती या तुमसे की नहीं जाती

     

    वो याद करेगी जिस दिन भी मेरी मोहब्बत को
    रोयेगी बहुत वो उस दिन फिर मेरी होने के लिए

     

    बुरा तो तब लगता है, जब हम एक ही इंसान से, बात करना चाहते हो और वो हमे इग्नोर करता है।

     

    बड़ा मुश्किल से सीखा है
    खुश रहना उसके बगैर
    अब सुना है, ये बात भी
    उसे परेशान करती है

     

    मिल ही गया होगा कोई गजब का हमसफर।
    वरना मेरा यार, ऐसे बदलने वालो में से तो नहीं था।

     

    तेरी मासूमियत को किन लफ्ज़ों में बयां करूं,
    सारे पन्ने पलट लिए किताब के कोई अल्फ़ाज़ ना मिला

     

    लोग कहते हैं हर दर्द की एक हद होती है, कभी मिलना हमसे हम वो सिमा अक्सर पार करके जाते हैं।

     

    निकाल दिया उसने अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज की तरह, ना लिखने के काबिल छोडा ना जलाने के

     

    बस तुम्हे पाने की तमन्ना
    नहीं रही, वरना
    मोहब्बत तो आज भी तुमसे
    बेशुमार करते है