Bewafa Shayari in Hindi – Bewafai Shayari Status HD Photo

    Hey guys. All of you are welcome on our new page. Today we are come here with Bewafa Shayari Status. In life we have a special person whom we would not want to let go. But that person leaves us alone and start to live a new life with another person. He/she gives importance to another person.

    In the beginning that person loves you a lot but as the time passes or he/she meets another one then he/she started to attach with that unknown person. This is called Bewafai Status in Hindi. For such situations we have a large collection of Bewafa Shayari Status on this page. You can copy your desired status and then upload that shayari on your Facebook, WhatsApp or any other social media account.

    Hindi Bewafa Shayari

    Let’s understand about Bewafa in brief. You can call someone Bewafa if he/she breaks the faith of love. In other words your lovers started to cheat you and falls in love with another person. Bewafai breaks a person from inside. He feels lonely.

    It breaks a person from inside that he behave like a mad man. He never tries to fall in love again. His body treats like a dead man. Hindi Bewafa Shayari Image with photos are available on this page. All of these quotes are new and latest.

    Bewafa Shayari Status in Hindi

    We can differentiate bewafai in different categories. Some people do bewafai due to personal reasons, family pressure, worst conditions or their family don’t allow them. While other persons do for it habitant. Such persons love a person then other.

    He/she does it according to their own will. There are many persons who does this kind of love. In the end we want to say one thing that if you like this page and Hindi Bewafai Shayari in Hindi then share it with your friends on social media and groups.

    रोज़ रोते हुए कहती है ज़िन्दगी,
    एक बेवफ़ा के लिए मुझे बर्बाद मत कर
    roz rote hue kahati hai zindagi,
    ek bewafa ke liye mujhe barbaad mat kar
    ज़रा सा भी नहीं पिघलता दिल तुम्हारा,
    इतना कीमती पत्थर कहा से ख़रीदा
    zara sa bhi nahin pighalata dil tumhaara,
    itana keemati patthar kaha se khareeda
    वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
    इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली।
    vo mili bhi to kya mili ban ke bevapha mili,
    itane to mere gunaah na the jitani mujhe saja mili.
    बहुत अजीब हैं ये मोहब्बत करने वाले,
    बेवफाई करो तो रोते हैं और वफा करो तो रुलाते हैं।
    bahut ajeeb hain ye mohabbat karane waale,
    bewafai karo to rote hain aur vapha karo to rulaate hain.
    गलती तेरी नहीं है की तूने मुझे धोखा दिया,
    गलती मेरी थी जो मैंने तुझे  मौका दिया
    galati teri nahin hai ki tune mujhe dhokha diya,
    galati meri thi jo mainne tujhe  mauka diya
    तमाशा बना के रखा है लोगो ने प्यार का,
    पहले करीब आते है प्यार जताते है और फिर बिना कसूर छोड़ कर चले जाते हैं !
    tamaasha bana ke rakha hai logo ne pyaar ka,
    pahale kareeb aate hai pyaar jataate hai
    aur
    phir bina kasoor chhod kar chale jaate hain !
    फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में,
    दुआ करना इस बार कोई बेवफा न निकले।
    phir se nikalenge talaash-e-zindagi mein,
    dua karana is baar koi bewafai na nikale.
    क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों,
    वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए।
    kya jaano tum bewafai ki had doston,
    vo hamase ishq seekhati rahi kisi or k liye.
    रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो,
    मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गुनाह
    Rushwa kyon karate ho tum ishq ko, e duniya vaalo,
    mehaboob tumhaara bewafa hai, to ishq ka kya gunaah
    तेरी तो फितरत थी
    सबसे मोहब्बत करने की,
    हम बेवजह खुद को
    खुश नसीब समझने लगे।
    teri to phitarat thi
    sabase mohabbat karane ki,
    ham bevajah khud ko
    khush naseeb samajhane lage.
    उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
    अगर उसमे वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने।
    usaki bewafai pe bhi fida hoti hai jaan apani,
    agar usame wafa hoti to kya hota khuda jaane.
    मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
    किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने।
    mere phan ko taraasha hai sabhi ke nek iraadon ne,
    kisi ko bewafai ne kisi ke jhoothe vaadon ne.
    खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को,
    दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी।
    khuda ne poochha kya saza doon us bewafa ko,
    dil ne kaha mohabbat ho jaye use bhi.
    बेवफाओं की इस दुनिया में संभल कर चलना,
    यहाँ मोहब्बत से भी बरबाद कर देतें हैं लोग।
    bewafaaon ki is duniya mein sambhal kar chalana,
    yahaan mohabbat se bhi barabaad kar deten hain log.
    कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
    कभी याद आकर उनकी जुदाई मार गयी,
    बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
    आखिर में उसकी बेवफाई मार गयी।
    kabhi gam to kabhi tanhai maar gayi,
    kabhi yaad aakar unaki judai maar gayi,
    bahut toot kar chaaha jisako hamane,
    aakhir mein usaki bewafai maar gayi.
    मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
    बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं।
    mohabbat se bhari koi Gazal use pasand nahin,
    Bewafai ke har sher pe vo daad diya karate hain.
    मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
    अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता।
    mil hi jaega koi na koi toot ke chaahane vaala,
    ab shahar ka shahar to bewafa ho nahin sakata.
    सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
    ​हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।
    sirph ek hi baat seekhi in husan waalon se hamane​​,
    ​haseen jisaki jitani ada hai vo utana hi bewafa hai.
    धोखा एक इंसान देता है और,
    नफरत पूरी दुनिया से हो जाती है..!!
    Dhokha ek insaan deta hai aur,
    napharat poori duniya se ho jaati hai..!!
    कभी किसी से टाइमपास वाला प्यार मत करो,
    वो भी इंसान है, उसे भी दर्द होता है
    kabhi kisi se time paas waala pyaar mat karo,
    vo bhi insaan hai, use bhi dard hota hai
    हमसे न करिये बातें यूँ बेरुखी से सनम,
    होने लगे हो कुछ-कुछ बेवफा से तुम।
    hamase na kariye baaten yoon berukhee se sanam,
    hone lage ho kuchh-kuchh bewafa se tum.
    तूने ही लगा दिया इलज़ाम-ए-बेवफाई,
    अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी।
    toone hi laga diya Ilazaam-e-Bewafai,
    adaalat bhi teri thi gawaah bhi too hi thi.
    बदल जाते है वो लोग भी वक़्त की तरह
    जिन्हे हम हद से ज़्यादा वक़्त देते है
    badal jaate hai vo log bhi vaqt ki tarah
    jinhe ham had se zyaada vaqt dete hai
    गिरना कौन चाहता है किसी की नजरों में,
    कभी लोग मजबूर कर देते है तो, कभी हालात…
    girana kaun chaahata hai kisi ke najaron mein,
    kabhi log majaboor kar dete hai to, kabhi haalaat…
    आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था,
    आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था,
    जो गीत लिखे थे कभी प्यार में तेरे,
    वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था।
    aap bewafa honge socha hi nahin tha,
    aap bhi kabhi khafaa honge socha nahin tha,
    jo geet likhe the kabhi pyaar mein tere,
    vahi geet ruswa hongi socha hi nahin tha.
    इस दौर के लोगो में वफा ढूँढ रहे हो…
    बड़े नादान हो साहिब, जहर की शीशी में दवा ढूंढ रहे हो…
    is daur ke logo mein vapha dhoondh rahe ho…
    bade naadaan ho saahib,
    jahar ki shishi mein dawa dhoondh rahe ho…
    पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफ़ाई,
    बड़ी तरकीब से एक शख्स ने तबाह किया।
    pahale ishk phir dhokha phir bevafai,
    badi tarakeeb se ek shakhs ne tabaah kiya.
    मुझे शिकवा नहीं कुछ बेवफ़ाई का तेरी हरगिज़,
    गिला तो तब हो अगर तूने किसी से निभाई हो।
    जरूरी नहीं की हर रिश्ता बेवफाई के साथ ही खत्म हो कुछ रिश्तें किसी की ख़शी के लिए भी तोड़ने पड़ते हैं!
    मेरी हंसी में भी कई गम छिपे है
    डरता हूँ बताने से…
    कही सबका प्यार से भरोसा न उठ जाये!!
    गम लिखूँ या किस्मत में दर्द की सजा लिखूँ…
    सबने तो लिखी शायरी, क्यूँ ना मैं दवा लिखूँ…
    जब तक न लगे एक बेवफाई की ठोकर,
    हर किसी को अपने महबूब पे नाज़ होता है।
    हर किसी की जिंदगी का एक ही मकसद है,
    खुद भले हों बेवफ़ा लेकिन तलाश वफ़ा की करते है.
    तेरी बेवफाई पे लिखूंगा ग़ज़लें,
    सुना है हुनर को हुनर काटता है
    चलो छोड़ो ये बहस कि वफ़ा किसने की
    और ✒  बेवफा कौन है
    तुम तो ये बताओ कि आज 'तन्हा' कौन है.
    ढूंढ़ तो लेते अपने प्यार को हम,
    शहर में भीड़ इतनी भी न थी,
    पर रोक दी तलाश हमने,
    क्योंकि वो खोये नहीं बदल गए थे।
    अपने तजुर्बे की आज़माइश की ज़िद थी,
    वर्ना हमको था मालूम कि तुम बेवफा हो जाओगे।
     हमें तो कबसे पता था की तू ✒ बेवफ़ा है,
    तुझे चाहा इसलिए कि शायद तेरी फितरत बदल जाये .
    अब मायूस क्या होना उसकी बेवफाई पर ऐ दिल
    तू खुद ही तो कहता था वो सबसे जुदा है ।
    किसी को इतना भी न चाहो कि भुला न सको क्योंकि,
    ‪ ज़िंदगी इन्सान और मोहब्बत तीनों ✒ बेवफा हैं.
     ये उनकी मोहब्बत का नया दौर है,
    जहाँ कल मैं था आज कोई और है।
    फ़िक्र तो तेरी आज भी है,
    बस पहले हक था अब नहीं है.
    न रहा कर उदास ऐ दिल
    किसी बेवफा की याद में,
    वो खुश है अपनी दुनिया में
    तेरा सबकुछ उजाड़ के।
    na raha kar udaas ai dil
    kisee bevapha kee yaad mein,
    vo khush hai apanee duniya mein
    tera sabakuchh ujaad ke.
    अरे बेपनाह मोहब्बत की थी हमने तुझसे ओ ✒  बेवफा,
    तुझे दुःख दूं ये न होगा कभी खुद मर जाऊं  यहीं ठीक है.
    are bepanaah mohabbat kee thi hamane tujhase bevapha,
    tujhe duhkh doon ye na hoga kabhee khud mar jaoon  yaheen theek hai.
    कभी बेखुदी तो कभी बखुदा बना वो कभी हमसाया तो कभी रहनुमा बना वो बहुत
    कुछ मिला हमको उसकी शख्सियत से कभी कातिल तो कभी बेवफा बना वो
    kabhi bekhudi to kabhi bakhuda bana vo kabhi hamasaaya to kabhi rahanuma bana vo bahut
    kuchh mila hamako usaki shakhsiyat se kabhi kaatil to kabhi bewafa bana vo
    जनाजा मेरा उठ रहा था फिर भी तकलीफ थी उसे आने में,
    ✒  बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी, और कितनी देर है दफनाने में.
    janaaja mera uth raha tha phir bhi takaleeph thi use aane mein,
    bewafa ghar mein baithi poochh rahi thi, aur kitane der hai daphanaane mein.
    एक बेवफा से प्यार का अंजाम देख लो,
    मैं खुद ही शर्मशार हूँ उससे गिला नहीं,
    अब कह रहे हैं मेरे जनाज़े पे बैठ कर,
    यूँ चुप हो जैसे हमसे कोई वास्ता नहीं।
    ek bewafa se pyaar ka anjaam dekh lo,
    main khud hi sharmashaar hoon usase gila nahin,
    ab kah rahe hain mere janaaze pe baith kar,
    yoon chup ho jaise hamase koi vaasta nahin।
    बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम, गलती हमसे हुई क्योंकि इंसान थे
    हम, आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है, कुछ समय पहले उनकी जान थे हम।
    Bewfai se dil laga liya naadaan the hum, galati hamesha huyi kyonki insaan the ham,
    aaj jinhen nazaren milaane mein takaleeph hotee hai, kuchh samay pahale unakee jaan the hum.
    काश हम भी होते गालिब की तरह शायरी के बादशाह
    हम भी तुझे रूलाते तेरी बेवफाई के शेर सुना सुना कर
    kaash ham bhi hote gaalib ki tarah shayari ke baadashaah
    ham bhi tujhe roolaate teri bewafai ke sher suna suna kar
    तेरी यादें हर रोज़ आ जाती है मेरे पास..
    लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई इनको

    teri yaaden har roz aa jaati hai mere paas..
    lagata hai tumane bewafai nahi sikhai inako